मेरा भारत महान

An initiative to keep the truth in front of everyone

48 Posts

24 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14497 postid : 1138983

मदरसा दारुल उलूम देवबन्द वहाबी आतंकवाद का अड्डा

  • SocialTwist Tell-a-Friend

वहाबी शैतानी खूंखार आतंकी संगठन ISIS का खौफ अब भारत में पैर पसार की कोशिश कर रहा है। ISIS के राक्षसी  पापी  मंसूबों से जुड़ी बहुत भयानक खबरें आ रही हैं, तो  वही ISIS वहाबी विचारधारा  के लिए काम कर रहे कई संदिग्ध आतंकियों की धरपकड़ भी जारी है। जो भारत सरकार की बहुत बड़ी कामयाबी है।

वैसे इस विषय को लेकर मैं कई लेख लिख चुका हूँ और लिखता रहूँगा पर  08/09/2014 को एक पत्र गृह मंत्री  को लिखा था जिस में मैने आशंका ज़ाहिर की थी के दारुल उलूम देवबन्द मदरसे को सऊदी अरब से भारत में कट्टरवाद (वहाबीयत) को पैदा करने और देश में आतंकवाद पैदा करने के लिए जो लाखों करोड़ों रूप का फण्ड आता है उसकी की जांच की मांग की थी मैने गृह मंत्रालय  से मांग की थी की कट्टरवादी वहाबी मदरसों की तलाशी होनी चाहये और उनपर भारत सरकार अपनी नज़र बनाये रखे ताके भारत में आतंकवाद अपने पैर न पसार पाये।

अब इसी प्रकार की बात ऑल इंडिया तंज़ीम उलेमा-ए-इस्लाम के अध्यक्ष मौलाना अशफ़ाक हुसैन क़ादरी भी कह रहें हैं उनका कहना है की  वहाबी विचारधारा  सारे आतंकवाद की कोख है। मौलाना अशफ़ाक हुसैन क़ादरी की यह बात मेरी आशंका को हकीकत की और पुष्टि करती है। मैं भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से पुरे भारत की और निवेदन करता हूँ की जल्द से जल्द दारुल उलूम देवबन्द मदरसों पर कार्यवाही करें।

1

देश में जिस प्रकार से कुछ लोग एक दुसरे के प्रति धार्मिक ज़हरीली भाषा का इस्तेमाल करते है उससे से छुटकारा पाने एवं भारत में आतंकवाद न पनपे उसके के लिए भारत सरकार को मैं  एक सुझाव देने की चेष्ठा कर रहा हूँ की भारत सरकार एक “नफरत मिटाओ देश शक्तिमान बनाओ” कमेटी “स्वच्छ भारत अभियान” की तर्ज़ पर बनाये जिस के अध्यक्ष प्रधानमंत्री हों और इस कमेटी में गैर राजनैतिक दल के हर धर्म के धर्म गुरुओ को रखा जाये जो अपने अपने गाव ,कस्बे, शहर में “नफरत मिटाओ देश शक्तिमान बनाओ” के जरीय भारत को नफरत मुक्त और आतंकवाद मुक्त बने रहने का सन्देश दें।

हालाँकि सभी धर्म के धर्म गुरु अपने अपने ढंग से काम कर रहें हैं पर शायद सरकार के द्वारा भी ऐसा अभियान चलाना आवश्यक है। 2 नाम मेरे जहन में हैं जो इस अभियान को कामयाब बना सकते हैं श्री श्री जी और मौलाना कल्बे सादिक जी दोनों व्यक्ति ही देश को एक जुट करने के लिए अपना अपना जीवन लगा रहें हैं। यह प्रस्ताव मैने भारत सरकार भेज दिया है आप सब लोग भी सहयोग करें ।

यह लेख भी पढ़े वहाबी कौन हैं? गुजारिश है कि जांच की जाए



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (5 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

shailesh001 के द्वारा
February 19, 2016

रियाज़ भाई, १४०० सालों में कितनी नियामतें जहर हो जाती हैं, कितने इल्म फ़ना हो जाते हैं, कितने पत्थर घिसकर रेत हो जाते हैं .. कितना पानी बहकर बाढ़ बन जाता है .. इसी तरह कोई बहुत पुरानी शिक्षा विकृत भी हो जाती है, ये होता ही है .. आज इस्लाम के साथ ऐसा ही है .. आपने ये बात अच्छी बताई है, आपका साधुवाद I हमें मिलकर इस विषय पर काम करना होगा .. शैलेश

rameshagarwal के द्वारा
February 15, 2016

जय श्री राम अबीदी जी  बहुत सही फ़रमाया है देवबंद की हरकते सन्धिंग है लेकिन उत्तरप्रदेश में वोट बैंक की राजनीती के चलते ऐसा होना मुस्किल है हाल में जो असहिष्णुता की बहस चली थी और जैसा रुख कुछ मीडिया ने सरकार को बदनाम करने के लिए किया था उसके पीछे भी सऊदी अरब के संयुक्त राष्ट संघ में मानवता के अध्यक्ष का हाथ था दुःख है की बंगाल,केरल,उत्तर प्रदेश आसाम कर्णाटक के नेताओ ने प्रदेश को इस्लामिक राज्य में बदल दिया दो नाम और है श्री श्री रवि शंकर जी,मोरारी बापू अच्छे लेख के लिए धन्यवाद्

pkdubey के द्वारा
February 15, 2016

आदरणीय भाईसाहब,आप जैसे लोग ही इस्लाम धर्म को जीवंत रखेंगे,वैसे तमाशा तो आजकल हर धर्म में है,पर इस्लाम में दहशत कुछ अधिक ही है और जो धर्म दहशत फैलता है ,शायद उसे धर्म कहना भी अपराध है |


topic of the week



latest from jagran